UP Board Solutions for Class 12 Geography Chapter 24 Foreign Trade (विदेशी व्यापार)

UP Board Solutions for Class 12 Geography Chapter 24 Foreign Trade

UP Board Solutions for Class 12 Geography Chapter 24 Foreign Trade (विदेशी व्यापार) are part of UP Board Solutions for Class 12 Geography. Here we have given UP Board Solutions for Class 12 Geography Chapter 24 Foreign Trade (विदेशी व्यापार).

Board UP Board
Textbook NCERT
Class Class 12
Subject Geography
Chapter Chapter 24
Chapter Name Foreign Trade (विदेशी व्यापार)
Number of Questions Solved 16
Category UP Board Solutions

UP Board Solutions for Class 12 Geography Chapter 24 Foreign Trade (विदेशी व्यापार)

विस्तृत उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1
भारत के विदेशी व्यापार का विवरण निम्नलिखित शीर्षकों के अन्तर्गत दीजिए –
(i) निर्यात, (ii) आयात, (ii) व्यापार की दिशा। [2014]
या
विदेशी व्यापार का क्या आशय है? भारत में आयात की जाने वाली वस्तुओं का उल्लेख कीजिए। [2008]
या
भारत के विदेशी व्यापार की प्रमुख विशेषताएँ बताइए। [2011, 12]
या
भारत का निर्यात व्यापार पर टिप्पणी लिखिए। [2008, 16]
या
भारत के विदेशी व्यापार की प्रवृत्तियों पर एक निबन्ध लिखिए। [2011]
या
भारत के आयात-निर्यात व्यापार की मुख्य विशेषताओं का वर्णन कीजिए। [2011]
या
भारत से निर्यात की जाने वाली प्रमुख वस्तुओं का विवरण दीजिए। [2014]
उत्तर

भारत का विदेशी व्यापार
Foreign Trade of India

विदेशी व्यापार की वृद्धि मानवीय सभ्यता के विकास का मापदण्ड होती है। विदेशी व्यापार द्वारा देश में उत्पादित अतिरिक्त वस्तुओं की खपत दूसरे देशों में हो जाती है, जबकि आवश्यक वस्तुओं की पूर्ति अन्य देशों से मँगाकर कर ली जाती है। इससे आर्थिक विकास में तीव्रता आती है तथा जीवन-स्तर में वृद्धि हो जाती है।

स्वतन्त्रता-प्राप्ति से पूर्व भारत का विदेशी व्यापार एक उपनिवेश एवं कृषि पदार्थों तक ही सीमित था। इसका अधिकांश व्यापार ग्रेट ब्रिटेन तथा राष्ट्रमण्डलीय देशों से ही होता था। देश से प्राथमिक उत्पादों का निर्यात किया जाता था, जबकि तैयार वस्तुओं का आयात किया जाता था। स्वतन्त्रता-प्राप्ति के बाद भारत के विदेशी व्यापार में क्रान्तिकारी परिवर्तन हुए हैं। आज देश के व्यापारिक सम्बन्ध लगभग सभी देशों से हो गये हैं। वर्तमान में भारत 180 देशों को लगभग 7,500 वस्तुओं से भी अधिक का निर्यात करता है, जबकि 6,000 से अधिक वस्तुएँ 140 देशों से आयात करता है। औद्योगिक एवं आर्थिक विकास की आवश्यकताओं ने आयात में भारी वृद्धि की है। उन्नत मशीनें, अलभ्य कच्चे माल, पेट्रोलियम पदार्थ, रासायनिक उर्वरकों आदि के आयात ने वर्तमान विदेशी व्यापार का सन्तुलन विपरीत दिशा में कर दिया है। वर्ष 2006-2007 में देश ने 5,638 अरब की वस्तुएँ विदेशों को निर्यात की थीं, अब यह बढ़कर 18,941 अरब हो गयी है। जबकि आयात १ 8,206 अरब का था, अब यह बढ़कर 27,141 अरब हो गया है।

भारत की प्रमुख आयातक एवं निर्यातक वस्तुएँ
Major Imports and exports of India

आयातक वस्तुएँ Importing Goods
भारत में आयात की जाने वाली वस्तुओं का विवरण निम्नलिखित है
(1) पेट्रोल एवं पेट्रोलियम उत्पाद – भारत के आयात में पेट्रोल एवं पेट्रोलियम उत्पादों का विशिष्ट स्थान है। यह आयात बहरीन द्वीप, फ्रांस, इटली, अरब, सिंगापुर, संयुक्त राज्य, ईरान, इण्डोनेशिया, संयुक्त अरब अमीरात, मैक्सिको, अल्जीरिया, म्यांमार, इराक, रूस आदि देशों से किया जाता है। वर्तमान समय में खाड़ी संकट के कारण पेट्रोल एवं पेट्रोलियम उत्पाद के मूल्य में और अधिक वृद्धि हुई है जिससे इसका आयात मूल्य बढ़ गया है।

(2) मशीनें – देश के आर्थिक एवं औद्योगिक विकास के लिए भारी मात्रा में मशीनों का आयात किया जा रहा है। इनमें विद्युत मशीनों का आयात सबसे अधिक किया जाता है। सूती वस्त्र उद्योग की मशीनें, कृषि मशीनें, बुल्डोजर, शीत भण्डारण, चमड़ा कमाने की मशीनें, चाय एवं चीनी उद्योग की मशीनें, वायु-संपीडक, खनिज उद्योग की मशीनें आदि अनेक प्रकार की मशीनों का आयात किया जाता है। मशीनें 46% ब्रिटेन से, 21% जर्मनी से, 14% संयुक्त राज्य अमेरिका से तथा शेष अन्य देशों; जैसे- बेल्जियम, फ्रांस, जापान एवं कनाडा आदि से आयात की जाती हैं।

(3) कपास एवं रद्दी रूई – भारत में उत्तम सूती वस्त्र तैयार करने के लिए लम्बे रेशे वाली कपास तथा विभिन्न प्रकार के कपड़ों के लिए रद्दी रूई विदेशों से आयात की जाती है। यह कपास एवं रूई मिस्र, संयुक्त राज्य अमेरिका, तंजानिया, कीनिया, सूडान, पीरू, पाकिस्तान आदि देशों से मँगायी जाती है।

(4) धातुएँ, लोहे तथा इस्पात का सामान – इन वस्तुओं का कुल आयातित माल में दूसरा स्थान है। ऐलुमिनियम, पीतल, ताँबा, काँसा, सीसा, जस्ता, टिन आदि धातुएँ विदेशों से अधिक मात्रा में मँगायी जाती हैं। इन वस्तुओं का आयात प्रायः ब्रिटेन, कनाडा, स्विट्जरलैण्ड, स्वीडन, संयुक्त राज्य अमेरिका, बेल्जियम, कांगो गणतन्त्र, मोजाम्बिक, ऑस्ट्रेलिया, म्यांमार, सिंगापुर, मलेशिया, रोडेशिया, जापान आदि देशों से किया जाता है।

(5) खाद्यान्न – देश में जनसंख्या की तीव्र वृद्धि तथा खाद्यान्न उत्पादन की कमी इसके आयात को आकर्षित करती है। परन्तु पिछले कुछ वर्षों से खाद्यान्न उत्पादन में आशातीत सफलता मिलने के कारण इनका आयात कम कर दिया गया है तथा देश निर्यात करने की स्थिति में आ गया है। थाइलैण्ड सदृश देशों को गेहूँ का मैदा निर्यात किया जा रहा है।

(6) रासायनिक पदार्थ – रासायनिक पदार्थों के आयात में निरन्तर वृद्धि होती जा रही है। इसमें अमोनियम सल्फेट, नाइट्रेट ऑफ सोडा, सुपर फॉस्फेट, एसेटिक एसिड, नाइट्रिक एसिड, बोरिक एवं टार्टरिक एसिड, सोडा-ऐश, ब्लीचिंग पाउडर, गन्धक, अमोनियम क्लोराइड आदि वस्तुएँ मुख्य हैं। इनका आयात सं० रा० अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, जर्मनी, जापान, बेल्जियम आदि देशों से किया जाता है। दवाइयों का आयात मुख्यतः ब्रिटेन, स्विट्जरलैण्ड, कनाडा एवं संयुक्त राज्य अमेरिका से किया जाता है।

(7) कागज व स्टेशनरी – देश में साक्षरता की वृद्धि तथा अन्य आवश्यकताओं के कारण कागज की माँग बढ़ रही है। इसका आयात नॉर्वे, स्वीडन, कनाडा, जर्मनी, फ्रांस, संयुक्त राज्य अमेरिका, ऑस्ट्रिया, फिनलैण्ड एवं ब्रिटेन से किया जाता है।
अन्य आयातक वस्तुओं में विद्युत उपकरण, काँच का सामान, सूती वस्त्र, ऊनी वस्त्र, मोटरसाइकिलें, रबड़ का सामान, जूट एवं रेशमी वस्त्र मुख्य हैं।

निर्यातक वस्तुएँ Exporting Goods
भारत से निम्नलिखित प्रमुख वस्तुओं का निर्यात किया जाता है –

  1. जूट का सामान – भारत के निर्यात व्यापार में जूट का सबसे महत्त्वपूर्ण स्थान है, क्योंकि इसके निर्यात से विदेशी मुद्रा का 35% भाग प्राप्त होता है। इससे निर्मित बोरे, टाट, मोटे कालीन, फर्श, गलीचे, रस्से, तिरपाल आदि निर्यात किये जाते हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन, अर्जेण्टीना, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, रूस, अरब गणराज्य आदि देश इसके मुख्य ग्राहक हैं।
  2. चाय – कुल चाय का 59% भाग ब्रिटेन को निर्यात किया जाता है, जबकि संयुक्त राज्य अमेरिका4%, रूस 12%, कनाडा 3%, ईरान 1%, अरब गणराज्य 6%, नीदरलैण्ड्स.2% तथा सूडान एवं जर्मनी अन्य प्रमुख ग्राहक हैं।
  3. चमड़ा – भारतीय चमड़े की माँग मुख्यतः ब्रिटेन 45%, जर्मनी 10%, फ्रांस 7% एवं संयुक्त राज्य अमेरिका 9% देशों में रहती है। अन्य ग्राहकों में इटली, जापान, बेल्जियम और यूगोस्लाविया आदि देश हैं।
  4. तम्बाकू – भारत द्वारा ब्रिटेन, जापान, पाकिस्तान, अदन, चीन, ऑस्ट्रेलिया आदि देशों को तम्बाकू का निर्यात किया जाता है।
  5. तिलहन – भारत से विभिन्न प्रकार के तिलहन एवं तेलों का निर्यात किया जाता है। इसमें मूंगफली, अलसी, तिल एवं अरण्डी का तेल प्रमुख हैं। तिलहन के उत्पादन में कमी के कारण अब खली का निर्यात अधिक किया जाता है। ब्रिटेन, फ्रांस, संयुक्त राज्य अमेरिका, पाकिस्तान, इराक, कनाडा, इटली, बेल्जियम, ऑस्ट्रेलिया, जर्मनी, हंगरी, सऊदी अरब, श्रीलंका, मॉरीशस आदि देश मुख्य आयातक हैं।
  6. लाख – लाख के आयातक ब्रिटेन, संयुक्त राज्य अमेरिका एवं ऑस्ट्रेलिया आदि देश हैं।
  7. सूती वस्त्र – भारत मोटा एवं उत्तम, दोनों ही प्रकार का कपड़ा निर्यात करता है। ईरान, इराक, सऊदी अरब, पूर्वी अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैण्ड, दक्षिणी अफ्रीका, श्रीलंका, म्यांमार, पाकिस्तान, थाइलैण्ड, मिस्र, तुर्की, चीन, सिंगापुर, मलेशिया, इण्डोनेशिया इन वस्त्रों के प्रमुख ग्राहक हैं।
  8. मसाले – भारत में काली मिर्च, इलायची, सुपारी, हल्दी, अदरख आदि अनेक मसालों का निर्यात संयुक्त राज्य अमेरिका, स्वीडन, सऊदी अरब, ब्रिटेन, पाकिस्तान, श्रीलंका, चीन, इटली, डेनमार्क एवं कनाडा को किया जाता है।
  9. धातु-निर्मित वस्तुएँ – धातु-निर्मित वस्तुओं के अन्तर्गत देश से बिजली के पंखे, बल्ब, लोहे एवं ताँबे के तार, बैटरियाँ, धातु की चादरों से बने बरतन, सिलाई की मशीनें, रेजर, ब्लेड, कागज बनाने, प्लास्टिक की ढलाई करने, छपाई करने, जूता सीने, चीनी एवं चाय बनाने की मशीनें, मोटरगाड़ियाँ एवं उनके पुर्जे, ताले, साँकलें एवं चटकनियाँ, छाते, लोहे से ढालकर बनाई गयी वस्तुएँ, गैस-बत्तियाँ, रेगमाल आदि वस्तुएँ निर्यात की जाती हैं।

भारत से निर्यात की जाने वाली अन्य वस्तुओं में सूखे मेवे-कोजू एवं अखरोट, फल एवं तरकारियाँ, अभ्रक, मैंगनीज, ऊन, कोयला, कहवा, नारियल एवं उससे निर्मित पदार्थ, रासायनिक पदार्थ तथा ऊनी कम्बल आदि प्रमुख हैं।

भारत के विदेशी व्यापार की मुख्य विशेषताएँ
Main Characteristics of India’s Foreign Trade

भारत के विदेशी व्यापार की प्रमुख विशेषताएँ निम्नलिखित हैं –
(1) अधिकांश भारतीय विदेशी व्यापार लगभग (90%) समुद्री मार्गों द्वारा किया जाता है। हिमालय पर्वतीय अवरोध के कारण समीपवर्ती देशों एवं भारत के मध्य धरातलीय आवागमन की सुविधा उपलब्ध नहीं है। इसी कारण देश का अधिकांश व्यापार पत्तनों द्वारा अर्थात् समुद्री मार्गों द्वारा ही किया जाता है।

(2) भारत के निर्यात व्यापार का 27% पश्चिमी यूरोपीय देशों, 20% उत्तरी अमेरिकी देशों, 51% एशियाई एवं ऑसिआनियाई देशों तथा 2% अफ्रीकी एवं दक्षिणी अमेरिकी देशों को किया जाता है। कुल निर्यात व्यापार का 61.1% भाग विकसित देशों (सं० रा० अमेरिका–17.4%, जापान-7.2%, जर्मनी–6.8% एवं ब्रिटेन-5.8%) को किया जाता है।
इसी प्रकार आयात व्यापार में 26% पश्चिमी यूरोपीय देशों, 39% एशियाई एवं ऑसिओनियाई देशों, 13% उत्तरी अमेरिकी देशों तथा 11% अफ्रीकी देशों का स्थान है।

(3) यद्यपि भारत में विश्व की 16% जनसंख्या निवास करती है, परन्तु विश्व व्यापार में भारत का भाग लगभग 10% से भी कम है, जबकि अन्य विकसित एवं विकासशील देशों का भाग इससे कहीं अधिक है। इस प्रकार देश के प्रति व्यक्ति विदेशी व्यापार का औसत अन्य देशों से कम है।
(4) भारत के विदेशी व्यापार का भुगतान सन्तुलन स्वतन्त्रता के बाद से ही हमारे पक्ष में नहीं रहा है। वर्ष 1960-61 तथा 1970-71 में भुगतानं सन्तुलन हमारे पक्ष में रहा है। वर्ष 1980-81 में घाटा 58.3 अरब था, वर्ष 1990-91 में यह घाटा १ 106.4 अरब तक पहुँच गया है। वर्ष 2013-14 में भारत के पास ₹8200 अरब से अधिक का विदेशी भुगतान शेष था। घाटे में वृद्धि का प्रमुख कारण आयात में भारी वृद्धि का होना है। आयात में भारी वृद्धि पेट्रोलियम पदार्थों के आयात के कारण हुई है।

(5) देश का अधिकांश विदेशी व्यापार लगभग 35 देशों के मध्य होता है, जो विभिन्न अन्तर्राष्ट्रीय समझौतों के आधार पर किया जाता है।
(6) भारत के विदेशी व्यापार में खाद्यान्नों के आयात में निरन्तर कमी आयी है, जिसका प्रमुख कारण खाद्यान्न उत्पादन में उत्तरोत्तर वृद्धि का होना है। वर्ष 1989-90 से देश खाद्यान्नों को निर्यात करने की स्थिति में आ गया है तथा उसने पड़ोसी देशों को खाद्यान्न निर्यात भी किये हैं।
(7) भारत अपनी विदेशी मुद्रा संकट का हल अधिकाधिक निर्यात व्यापार से ही कर सकता है; अतः उन्हीं कम्पनियों को आयात की छूट दी जाती है जो निर्यात करने की स्थिति में हैं।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1
विदेशी व्यापार का क्या अभिप्राय है? भारत से निर्यात की जाने वाली दो प्रमुख वस्तुओं का उल्लेख कीजिए। [2010]
उत्तर
विदेशी व्यापार – वह व्यापार जिसके माध्यम से एक देश की अतिरिक्त वस्तुएँ दूसरे देश में खपती हैं, विदेशी व्यापार कहलाता है। आयात व निर्यात विदेशी व्यापार के दो प्रमुख पहलू हैं। जब एक देश दूसरे देश से कोई वस्तु मँगाता है, उसे आयात कहते हैं। एक देश से दूसरे देश को भेजी जाने वाली वस्तु के व्यापार को निर्यात कहा जाता है।
भारत से निर्यात की जाने वाली दो प्रमुख वस्तुएँ हैं-सिले-सिलाए परिधान तथा अभियान्त्रिकी माल।

प्रश्न 2
भारत के विदेशी व्यापार की नवीनतम प्रवृत्तियाँ क्या हैं?
या
भारतीय विदेशी व्यापार की प्रवृत्तियों का वर्णन कीजिए। [2010, 15]
उत्तर
(1) आयातों की प्रकृति में परिवर्तन – पहले भारत में निर्मित माल का अधिक आयात किया जाता था, अब कच्चे (अशुद्ध) पेट्रोलियम, कच्चे माल तथा पूँजीगत वस्तुओं का आयात होने लगा है।

(2) गैर-परम्परागत वस्तुओं के निर्यात में वृद्धि – भारत परम्परागत निर्यात पदार्थों (खाद्य पदार्थ, चमड़ा, अभ्रक, मैंगनीज, लौह धातु) के अतिरिक्त साइकिलें, मशीनें, पंखे, इन्जीनियरिंग का सामान, मशीनरी, उपकरण, रेल के इंजन तथा उपकरण, इस्पात का फर्नीचर, चीनी, सीमेण्ट, हौज़री, फल, हस्त- निर्मित वस्तुओं आदि का निर्यात करने लगा है।

(3) विदेशी व्यापार की दिशा में परिवर्तन – विगत चार दशकों में भारत के विदेशी व्यापार की। दिशा में भारी परिवर्तन हुए हैं। 1960 के दशक में जहाँ ब्रिटेन तथा कॉमनवेल्थ के देशों तथा यूरोपीय संघ के देशों से अधिक व्यापार होता था, अब अल्पविकसित एशियाई तथा अफ्रीकी देशों तथा पेट्रोलियम उत्पादक देशों से आयातों में वृद्धि हुई है। आयातों के स्रोत के रूप में संयुक्त राज्य अमेरिका का वर्चस्व घट गया है, किन्तु निर्यातों में वृद्धि हुई है। सन् 1970 तक जहाँ रूस को अधिक निर्यात होते थे, 1991 ई० में उसके विघटन के बाद निर्यात एकदम घट गये हैं।

प्रश्न 3
भारत से निर्यात की जाने वाली दो प्रमुख वस्तुओं के नाम बताइए। वे किन-किन देशों को निर्यात की जाती हैं? [2008, 11]
उत्तर

  1. चाय – चाय भारत के प्रमुख निर्यातों में से एक है। ब्रिटेन भारतीय चाय का सबसे बड़ा ग्राहक है। इसके अतिरिक्त अमेरिका, ईरान, संयुक्त अरब गणराज्य, रूस, जर्मनी, सूडान आदि देशों को भारत चाय का निर्यात करता है।
  2. जूट – जूट भारत का परम्परागत निर्यात है। भारतीय जूट का सबसे बड़ा ग्राहक अमेरिका है। इसके अतिरिक्त क्यूबा, संयुक्त अरब गणराज्य, हांगकांग, रूस, ब्रिटेन, कनाडा, अर्जेण्टीना आदि देशों को भारत जूट का निर्यात करता है।

प्रश्न 4
भारत के विदेश व्यापार में अभिनव प्रवृत्तियों का उल्लेख कीजिए। [2016]
उत्तर
भारत के विदेश व्यापार की अभिनव प्रवृत्तियाँ
भारत के विदेश व्यापार की अभिनव प्रवृत्तियाँ निम्नलिखित हैं –

  1. विगत वर्षों में भारत का निर्यात व्यापार अपेक्षाकृत पूर्व वर्षों से बढ़ा है जो एक अच्छा संकेत है। भारत की निर्यात वस्तुओं में भी अब परिवर्तन देखा गया है। इनमें रेडीमेड गारमेण्ट्स, इलेक्ट्रोनिक्स उत्पाद, सॉफ्टवेयर और आभूषण आदि मुख्य हैं।
  2. उदारीकरण के दौर में आयात-निर्यात नीति में उदारवादी एवं मित्रवत् परिवर्तन लाकर जहाँ एक ओर भारतीय निर्यातों के लिए विस्तृत परिक्षेत्र तैयार किया गया है। वहीं विश्व व्यापार संगठन (WTO) को किए गए वादे के अनुरूप परिमाणात्मक नियन्त्रणों को भी समाप्त करने का दौर भारतीय अर्थव्यवस्था में तेजी से लागू कर दिया गया है।
  3. भारत सरकार ने देश के निर्यातों में वृद्धि के उद्देश्य से चार परम्परागत निर्यात संवर्द्धन क्षेत्रों (EPzs) को विशेष आर्थिक परिक्षेत्र (SEZs) में रूपान्तरित कर दिया है। कांडला (गुजरात), सान्ताक्रुज (महाराष्ट्र), कोच्चि (केरल) तथा सूरत (गुजरात) विशेष आर्थिक परिक्षेत्र इसमें सम्मिलित हैं।
  4. भारत का विदेश व्यापार अन्तर्राष्ट्रीय समझौतों के आधार पर किया जाता है। भारत का अधिकांश देशों से विदेश व्यापार होता है।
  5. भारत के अधिकांश आयात-निर्यात (व्यापार) देश के पूर्वी तथा पश्चिमी तट पर स्थित 13 बड़े पत्तनों द्वारा ही सम्पन्न किए जाते हैं।

प्रश्न 5
भारत के विदेशी व्यापार की चार विशेषताएँ लिखिए। [2013]
उत्तर
विस्तृत उत्तरीय प्रश्न संख्या 1 के अन्तर्गत ‘भारत के विदेशी व्यापार की मुख्य विशेषताएँ शीर्षक देखें।

अतिलघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1
व्यापार के असन्तुलन से क्या अभिप्राय है?
उत्तर
जब किसी देश में निर्यात की अपेक्षा आयात अधिक होते हैं तब इसे व्यापार का असन्तुलन कहते हैं।

प्रश्न 2
भारत के विदेशी व्यापार की दो नवीन प्रवृत्तियों का उल्लेख कीजिए।
उत्तर

  1. गैर-परम्परागत वस्तुओं के निर्यात में वृद्धि
  2. विदेशी व्यापार की दिशा में परिवर्तन।

प्रश्न 3
भारत में किस पदार्थ का आयात सबसे अधिक मूल्य का होता है?
उत्तर
भारत में पेट्रोलियम तथा इसके पदार्थों का आयात सर्वाधिक मूल्य का होता है।

प्रश्न 4
भारत के व्यापार असन्तुलन का क्या प्रमुख कारण है?
उत्तर
भारत को पेट्रोलियम, मशीनरी, रसायन आदि के आयात पर भारी विदेशी मुद्रा खर्च करनी पड़ती है तथा निर्यात कम मूल्य के होते हैं जिससे व्यापार असन्तुलित हो जाता है।

प्रश्न 5
भारत की दो प्रमुख निर्यात वस्तुओं का वर्णन कीजिए। [2010, 15]
उत्तर

  1. हस्तनिर्मित सामान तथा सिले-सिलाए वस्त्र।
  2. कच्चे खाद्य पदार्थ।

प्रश्न 6
भारत में आयात की जाने वाली किन्हीं दो वस्तुओं के नाम लिखिए। वे किन-किन देशों से आयात की जाती हैं? [2010, 11]
उत्तर

  1. मशीनें – मशीनें मुख्यतः ब्रिटेन, जर्मनी तथा संयुक्त राज्य अमेरिका से आयात की जाती हैं।
  2. रासायनिक पदार्थ – इन्हें मुख्यत: संयुक्त राज्य अमेरिका, फ्रांस, इटली, जर्मनी तथा जापान से आयात किया जाता है।

बहुविकल्पीय प्रश्न

प्रश्न 1
जिन वस्तुओं के विश्व व्यापार में भारत का लगभग 10% भाग है, वे हैं –
(क) चावल
(ख) मसाले
(ग) बहुमूल्य रत्न
(घ) ये सभी।
उत्तर
(घ) ये सभी।

प्रश्न 2
मूल्य की दृष्टि से भारत सबसे अधिक आयात करता है –
(क) मोती का
(ख) पेट्रोलियम और लुब्रिकेट्स का
(ग) अनाजों का
(घ) अधात्विक खनिजों का।
उत्तर
(ख) पेट्रोलियम और लुब्रिकेट्स का।

प्रश्न 3
निम्नलिखित में से भारत किस वस्तु का निर्यात नहीं करता है।
(क) समुद्री उत्पाद
(ख) चाय
(ग) मसाले
(घ) पेट्रोलियम।
उत्तर
(घ) पेट्रोलियम।

प्रश्न 4
भारतीय कॉफी का सबसे बड़ा खरीदार है।
(क) रूस
(ख) जापान
(ग) ऑस्ट्रेलिया
(घ) इटली।
उत्तर
(घ) इटली।

We hope the UP Board Solutions for Class 12 Geography Chapter 24 Foreign Trade (विदेशी व्यापार) help you. If you have any query regarding UP Board Solutions for Class 12 Geography Chapter 24 Foreign Trade (विदेशी व्यापार), drop a comment below and we will get back to you at the earliest.

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *